layout

wide boxed

direction

ltr rtl

style

light dark

skins

default alimbalmarina somnambula juicy spoonflower goats nutricap keratin vit courtly attire mondrian sage walking by

bg pattern

1 2 3 4 5 6 7 8

bg image

1 2 3 4 5 6 7 8

नवीन अंक
November 2021
नवीन अंक
01-October-2021

विश्‍व स्तर पर विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन है-ओलंपिक। आधिकारिक रूप से पहले ओलंपिक का आयोजन यूनान की राजधानी एथेंस में 1896 में किया गया था। ओलंपिक पर्वत पर या ओलंपिया शहर में खेल-प्रतियोगिताएं होने के कारण इसका नाम ओलंपिक पड़ा। ओलंपिक हर चार वर्ष पर आयोजित किया...

शिक्षा, संस्कार, समरसता, स्वास्थ्य और स्वावलंबन को लेकर सूर्या फाउण्डेशन पिछले 30 वर्षों से समाज जीवन के बीच कार्य कर रहा है। ग्रामवासियों का स्वास्थ्य अच्छा रहे, कोई बीमार न हो, सबको पोषक भोजन मिले, गांव का पैसा गांव में रहे इन्हीं उद्देश्यों को लेकर सूर्या फाउण्डेशन ने घर-घर पोषण वाटिका अभियान...

स्वतंत्रता की 74वीं वर्षगांठ पर मातृशक्ति को नमन पिछले समय कई माता-बहिनों ने विपरीत परिस्थितियों के बावजूद अपनी दृढ़ इच्छाशक्ति और लगन से ऐसे कार्य किए जो न केवल युवतियों बल्कि सभी युवा शक्ति के लिए प्रेरणा-पुंज का कार्य करेंगे। प्रस्तुत है ऐसे तीन उदाहरण- सफाईकर्मी से आरएएस तक का सफर...

राष्ट्रभाव को जगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका-शांताक्का नारी में सृजन शक्ति है। उस सृजन से वह परिवार,समाज और देश का निर्माण करने में सक्षम है। राष्ट्रभाव को जगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है। यह कहना है राष्ट्र सेविका समिति की प्रमुख संचालिका शांताक्का का। वे 19 जुलाई को अखिल भारतीय राष्ट्रीय शैक्षिक महासंघ की ओर से प्रकाशित पुस्तक...

धर्म परिवर्तन हो या लव-जिहाद राजस्थान ही नहीं देश के किसी न किसी कोने से रोज कोई न कोई खबर अवश्य आती है। दिनों-दिन बढ़ती मतांतरण की घटनाएं निश्‍चित रूप से गहन चिंता का विषय है। पिछले दिनों जयपुर में भी ऐसी ही एक घटना सामने आयी है। रोजगार का झांसा देकर एक महिला को कश्मीर ले जाकर पहले दुष्कर्म किया...

झारखंड के एक गांव की पूरी आबादी एक ही व्यक्ति उत्तीम मियां की वंशज होने की जानकारी मिली है। उत्तीम मियां कोई 100 वर्ष पूर्व अपनी पत्नी के साथ रोजगार की खोज में झारखंड के गांव कोडरमा पहुँचे थे। कोई रोजगार नहीं मिलने पर वहीं जंगल में कुछ जगह साफ कर खेती करने लगे तथा रहने के लिए एक झोपड़ी बना ली...

Pages

Error message

  • Deprecated function: Array and string offset access syntax with curly braces is deprecated in include_once() (line 20 of /home/patheykan/public_html/includes/file.phar.inc).
  • An illegal choice has been detected. Please contact the site administrator.
  • An illegal choice has been detected. Please contact the site administrator.

प्रधानमंत्री ने किया बिरसा मुंडा संग्रहालय का उद्घाटन, जनजातीय परंपरा व शौर्य गाथा को मिलेगी पहचान, भगवान बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने रांची स्थित ‘भगवान बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय’ का ऑनलाइन उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि अपनी विशिष्ट संस्कृति के साथ ऐतिहासिक पहचान रखने वाली भगवान बिरसा मुंडा की यह धरती विकास यात्रा में आगे बढ़े, यही कामना है।

अंक खोज

अंक

1-December-2021
16-November-2021
01-October-2021

विशेषांक

November 2021
May 2021
November 2020

Analytical Services

मिताकुये ओयासिन
24 Aug

मिताकुये ओयासिन

‘मिताकुये ओयासिन’ मूल अमरीकियों की एक कहावत है। इसका अर्थ है- हम सब आपस में जुड़े हैं। कितना अंतर है अमरीका...

testimonials

mem-img

पाथेय कण अपने संक्षिप्त कलेवर में मानव जीवन की धन्यता के लिए नितान्त आवश्यक दक्षता के साथ सुदीर्घकाल से सुदीर्घक्षेत्र में परोस रहा है, जो अत्यन्त प्रशंसनीय है। धर्म-अध्यात्म-राष्ट्रीयता-स्वदेशी जागरण- भारतभूमि का गौरव इत्यादि अनेक मांगलिक पाथेय कणों का निरन्तर प्रवाह राष्ट्र के लिए गौरव की बात है। पाथेय कण की यह यात्रा परममांगलिक हो, विराट् हो तथा चिरस्थायी भी हो, इसी सद्भावना के साथ परमप्रभु श्रीरामजी के श्रीचरणों में प्रार्थी हूँ।

स्वामी रामनरेशाचार्य

mem-img

लोगों की समस्याओं को उजागर करने के साथ-साथ समाज के विकास की बातों को भी लोगों के सामने रख कर जन-जन में राष्ट्रीय, सामाजिक और धार्मिक चेतना जगाना और सुदृढ़ बनाने का उत्तरदायित्व अखबार और मीडिया का बनता है।पाथेय जन-जन में भेदभाव रहित धार्मिकता , सामाजिकता एवं राष्ट्रीयता को जाग्रत करने में सफल हो।

नरेन्द्र मोदी, प्रधानमंत्री भारत सरकार

mem-img

अपने सांस्कृतिक मूल्यों और परम्पराओं के लिये ख्यात राजस्थान का इतिहास भी गौरवशाली रहा है। इन मूल्यों तथा परम्पराओं की झलक जयपुर से प्रकाशित पाक्षिक पाथेय कण में महसूस की जा सकती है।

शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री, मध्यप्रदेश

© 2016 All rights reserved. Patheykan Theme by eCare SofTech Pvt Ltd